मुख्य पृष्ठ  | संबंधित लिंक   | सूचना का अधिकार  | सामान्यतः पूछे जाने वाले प्रश्न  | सम्पर्क   | साइट मानचित्र | भा.वा.अ.शि.प. वेबमेल  | नागरिक चार्टर   | English Site 

भारतीय वानिकी अनुसंधान एवं शिक्षा परिषद

(पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय के तहत एक स्वायत्त निकाय, भारत सरकार )
Select Theme:
 नव वर्ष २०१८ के अवसर पर भारतीय वानिकी अनुशंधान एवं शिक्षा परिषद् के कार्मिको को महानिदेशक, भा.वा.आ.शि.प. का शुभकामना सन्देश
The President of India, Shri Pranab Mukherjee receiving the Report on ‘Health Status and Age Assessment of the Trees of Rashtrapati Bhavan’ from Dr. Savita, Director, Forest Research Institute, Dehradun at Rashtrapati Bhavan on the eve of demitting office as the 13th President of India on July 24, 2017

बुलेटिन बोर्ड  

 

                         पुरालेखागार  

महानिदेशक के डेस्क से

भा.वा.अ.शि.प. परिवार की ओर से शुभकामनाएं तथा हमारी वेबसाइट में आपका स्वागत है। हम इस संस्था के गौरवपूर्ण इतिहास से सम्बनिधत सारभूत सूचना उपलब्ध करवायेगे। अधिक..

भा.वा.अ.शि.प. के  द्वारा अद्यतन

यूएनएफसीसीसी के कॉप 23, बॉन,  (जर्मनी)

भारतीय वानिकी अनुसंधान एवं शिक्षा परिषद ने 09 नवंबर, 2017 को भारत के मंडप बॉन,  (जर्मनी) सीओपी 23 पर वानिकी और आरईडीडी पर आयोजन किया ।   देखें...........           चित्रप्रदर्शनी..........  भा.वा..शि..:17.11.2017

 

 

भारतीय वानिकी अनुसंधान एवं शिक्षा परिषद देहरादून में हिंदी सप्ताह ।

भारतीय वानिकी अनुसंधान एवं शिक्षा परिषद देहरादून ने दिनांक  07 से 14 सितंबर 2017 तक हिंदी सप्ताह मनाया।

 देखें...........           भा.वा..शि..:15.09.2017

 

 

क्षेत्रीय अनुसंधान सम्मेलन की सिफारिशें


काष्ठ विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी संस्थान, बंगलुरू  में दिनांक  17 जुलाई, 2017 को आयोजित एक  दिवसीय क्षेत्रीय अनुसंधान सम्मेलन की रिपोर्ट

 देखें..............         भा.वा.अ.शि.प.:26.07.2017

 

भा. वा. अ. शि. प. देहरादून ने एन टी पी सी लिमिटेड के साथ सहमति ज्ञापन पर हस्ताक्षर किये।

भारतीय वानिकी अनुसंधान एवं शिक्षा परिषद द्वारा एन टी पी सी की सहायता से उगाई गई रोपणियों की हरीतिमा को मानीटर करने के लिए 14 दिसम्बर 2016 को नेशनल थर्मल पावर कार्पोरेशन लिमिटेड के साथ सहमति ज्ञापन पर हस्ताक्षर किये गये। देखें..........       भा.वा.अ.शि.प.:15.12.2016

 
 

पुरालेखागार 3

पुरालेखागार 2

पुरालेखागार 1

भा.वा.अ.शि.प. के संस्थानों द्वारा अद्यतन    

 

राज्य वन सेवा केंद्रीय एकेडमी,  देहरादून के प्रशिक्षुओं  द्वारा दिनांक 28 दिसंबर, 2017 को उष्णकटिबंधीय वन अनुसंधान संस्थान, जबलपुर के  दौरे पर एक रिपोर्ट ।       देखें...............         उ.व.अ.सं.:11.01.2018   

 

उष्णकटिबंधीय वन अनुसंधान संस्थान, जबलपुर में  16  से 31 दिसंबर, 2017 तक स्वच्छता पखवाड़ा  के उत्सव पर एक रिपोर्ट । देखें...............      उ.व.अ.सं.: 03.01.2018   

 

हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान, शिमला द्वारा  दिनांक 06 से 08 दिसंबर, 2017 तक आयोजित तीन दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम की एक रिपोर्ट     देखें...............    हि.व.अ.सं.: 22.12.2017

 

 

उष्णकटिबंधीय वन अनुसंधान संस्थान, जबलपुर द्वारा दिनांक 14  से 29 नवंबर, 2017 तक आयोजित लाका खेती और उसके प्रबंधन पर एक रिपोर्ट ।    देखें...............     उ.व.अ.सं.: 20.12.2017   

 

हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान, शिमला द्वारा दिनांक 19 दिसंबर, 2017 को  आयोजित आईपीआर मुद्दों और पेटेंट फाइलिंग पर एक दिवसीय कार्यशाला सह प्रशिक्षण कार्यक्रम पर एक रिपोर्ट   देखें...............   हि.व.अ.सं.: 20.12.2017

 

हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान, शिमला   में  दिनांक  12 दिसंबर, 2017 को शिमला डब्लूएल डिवीजन के नोहारा रेंज में खारसु ओक की मृत्यु दर के कारणों और प्रबंधन पर प्रशिक्षण कार्यक्रम पर एक रिपोर्ट ।   देखें...............   हि.व.अ.सं.: 18.12.2017

 

वन  अनुसंधान  संस्थान,  देहरादून  द्वारा   वन  विज्ञान केंद्र, हल्द्वानी में  दिनांक  28 से 30 नवंबर २०१७ तक आयोजित गैर लकड़ी के वन उत्पादों और औषधीय पौधों के सतत उपयोग पर प्रशिक्षण पर एक रिपोर्ट।     देखें...............    व.अ.सं.:15.12.2017

 
 
 
 

 

पुरालेखागार
 

त्वरित संयोजन

मानचित्र पर भा.वा.अ.शि.प.

मानचित्र पर भा.वा.अ.शि.प. के संस्थान


View Larger Map

View Larger Map

अस्वीकरण ( डिस्क्लेमर): दिखाई गई सूचना को यथासंभव सही रखने के सभी प्रयास किए गए हैं। वेबसाइट पर उपलब्ध सूचना के अशुद्ध होने के कारण किसी भी व्यक्ति के किसी भी नुकसान के लिए भारतीय वानिकी अनुसन्धान एवं शिक्षा परिषद उत्तरदायी नहीं होगा। किसी भी विसंगति के पाए जाने पर head_it@icfre.org के संज्ञान में लाएं।